भारतीय विदेशी मुद्रा बाजार

कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना

कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना
Treding करने से पहले डिपॉजिट और kyc खाते में जानना बहुत जरूरी है तो चलिए जानते हैं

Cryptocurrency : ज्यादा तेजी से पैसे कमाने हैं तो जानिए क्यों डिजिटल संपत्ति में निवेश बेहतर रहेगा

Octa fx copytrading क्या है I और octa fx copytrading से पैसे केसे बनाए। octa f trading और octa fx copytrading में क्या अंतर है

तो गाइस चलिए जानते है की कॉपीट्रेडिंग क्या होती है और है ट्रेडिंग क्या होता है बो तो आप जानते ही होंगे की किसी करंसी या कमोडिटी या किसी स्टॉक की हम जो एनालिसिस करते हेयर उसमे बाय या सेल करते है उसे हम ट्रेडिंग कहते है अगर आपको ट्रेडिंग करना नही आता है या आपको ट्रेडिंग आप पहले से ट्रेडिंग करते हो और आपको प्रॉफिट नही होता है बल्कि लोस होता है तो उसका सिर्फ एक ही रीजन है की आपको ट्रेडिंग पूरी तरह से नहीं आती तो गाइस आप ट्रेडिंग न करके कापीट्रेडिंग एप के साथ ट्रेड करे क्योंकि गाइस octa fx copytrading एप के साथ ट्रेडिंग करने पर आपको लोस होने के कोई चांस नहीं होते है क्योंकि octa fx copytrading एप में आपको टॉप ट्रेडिंग करने वाले मिल जाते है और आप बहा से इन टॉप ट्रेडर को हायर करके उनके जरिए ट्रेडिंग कर सकते हो और गाइस आप जब कोई अच्छा ट्रेडर हायर कर लेंगे तो वह ट्रेडर आपसे कोई फिक्स पैसे नही लेंगे जब आप किसी ट्रेडर के द्वारा ट्रेडिंग करोगे तो आपको उस ट्रेडर को कुछ कमीसन देना होगा जितने पैसे की आप ट्रेडिंग करोगे और जितना भी आपको प्रॉफिट होगा इस प्रॉफिट का कुछ % कमीसन आपको उन ट्रेडर को देना होगा

डीमैट अकाउंट क्या होता है? शेयरों को खरीदा और बेचा कैसे जाता है?

डीमैट अकाउंट क्या होता है? शेयरों को खरीदा और बेचा कैसे जाता है?

TV9 Bharatvarsh | Edited By: मनीष रंजन

Updated on: Oct 20, 2022 | 11:17 AM

शेयर मार्केट में निवेश ( इन्वेस्टमेंट ) शुरू करने के लिए आपको तीन अकाउंट ( खातों ) की जरूरत होती है . ये तीन अकाउंट हैं डीमैट अकाउंट , ट्रेडिंग अकाउंट और बैंक अकाउंट . हर अकाउंट का अपना एक अलग काम होता है , लेकिन ट्रांजैक्शन ( लेन – देन ) को पूरा करने के लिए तीनों एक – दूसरे पर निर्भर होते हैं . शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के लिए ये तीन अकाउंट होने चाहिए .

डीमैट अकाउंट क्या है ?

डीमैट अकाउंट एक बैंक अकाउंट के समान है . जैसे एक सेविंग अकाउंट ( बचत खाता ) पैसे को चोरी होने और किसी भी गड़बड़ी से बचाता है , वैसे ही एक डीमैट अकाउंट निवेशकों के लिए भी यही काम करता है . डीमैट अकाउंट या डीमैटरियलाइज्ड अकाउंट इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में शेयरों और सिक्योरिटीज को रखने की सुविधा देता है . ये अकाउंट फिजिकल शेयरों को डीमैटरियलाइज्ड फॉर्म में स्टोर ( संग्रहित ) करते हैं . फिजिकल शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म ( रूप ) में कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना परिवर्तित करने की प्रक्रिया ( प्रोसेस ) को डिमैटेरियलाइजेशन कहा जाता है . जब भी ट्रेडिंग की जाती है तो इन शेयरों को डीमैट अकाउंट में क्रेडिट या डेबिट किया जाता है . डीमैट अकाउंट के प्रकार ( टाइप ) डीमैट अकाउंट खोलते समय निवेशकों को अपने प्रोफाइल के मुताबिक डीमैट अकाउंट का चुनाव सावधानी से करना चाहिए . कोई भी भारतीय मिनटों में ऑनलाइन डीमैट अकाउंट खोल सकता है . निवेशक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) के साथ डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं . 5 पैसा https://bit.ly/3RreGqO एक ऐसा ही प्लेटफॉर्म है जहां आप आसानी से अपना डीमैट अकाउंट खोल सकते कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना हैं और ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं . डीमैट अकाउंट चार तरह के होते हैं .

1. क्रिप्टो का बढ़ता बाजार

पिछले दो सालों में क्रिप्टोकरेंसी का बाजार जबरदस्त तेजी के साथ बढ़ा है. इसे ऐसे समझिए कि 2019 के अंत तक बिटकॉइन की कीमत 7,000 डॉलर यानी लगभग 5.18 लाख के आसपास थी, लेकिन आज इसकी कीमत $45,000 डॉलर यानी लगभग 33.34 लाख से ऊपर जा चुकी है. यहां तक कि इस साल फरवरी और अप्रैल में यह 60,000 डॉलर यानी लगभग 44.46 लाख से ऊपर पहुंच गई थी.कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना

बस क्रिप्टोकरेंसी ही नहीं, महामारी के बाद पूरी दुनिया में ही अधिकतर क्षेत्रों में डिजिटल इकोसिस्टम को अपनाया जा रहा है. क्रिप्टोकरेंसी के साथ-साथ NFTs यानी नॉन-फंजिबल टोकन्स का भी चलन तेज है. इसके साथ ही क्रिप्टो कॉइन्स में निवेश करने के साथ-साथ टेक में दिलचस्पी रखने वाले अब इन कॉइन्स को जेनरेट करने की प्रक्रिया यानी माइनिंग में भी हिस्सा ले रहे हैं और माइनिंग के जरिए अच्छा पैसा बना रहे हैं.

3. जबरदस्त रिटर्न

क्रिप्टोकरेंसी का आकर्षण इसलिए भी सबसे ज्यादा माना जा सकता है क्योंकि रियल्टी सेक्टर की ही तरह इसमें भी निवेश आपको जबरदस्त रिटर्न देता है. हालांकि, रियल्टी सेक्टर की तरह जरूरी नहीं है कि क्रिप्टो में आप कोई बहुत बड़ा निवेश ही करें. आप एक छोटे निवेश से ही शुरू कर सकते हैं. वहीं, छोटे-छोटे अमाउंट में कई हिस्सों में निवेश कर सकते हैं.

डिजिटल संपत्ति में निवेश करके या अपना ऑनलाइन बिजनेस शुरू करके पैसे कमाना एक अच्छा विकल्प है. आप अपने काम और रेगुलर निवेश के साथ-साथ इनसे अलग से पैसा कमा सकते हैं.

Video : कॉफी एंड क्रिप्टो : क्रिप्टोकरेंसी में अच्छा क्या है? किस में कर सकते हैं ट्रेडिंग?

Android और iOS के 167 फर्जी ऐप्स से सावधान रहें , साइबर रिसर्चर्स ने की पहचान

Android

टेक डेस्क:- साइबर सुरक्षा शोधकर्ताओं ने Android और IOS में 167 कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना फर्जी ऐप की पहचान की है जिनके जरिए हैकर्स लोगों के पैसे चुराते हैं। ये वे ऐप हैं जिन्हें लोग किसी विश्वसनीय कंपनी के वित्तीय ट्रेडिंग ऐप, बैंकिंग या क्रिप्टो करेंसी ऐप पर विचार करके इंस्टॉल करते हैं। साइबर सिक्योरिटी (Cyber ​​security) फर्म सोफोस ने जांच में पाया है कि ये फर्जी ऐप काफी हद तक असली ऐप से मिलते-जुलते हैं।

आप कैसे धोखा देते हैं?

आमतौर पर हैकर्स डेटिंग साइट्स के जरिए लोगों को फंसाते हैं और ज्यादा पैसा कमाने का लालच देकर इन फर्जी एप को डाउनलोड करने की सलाह देते हैं। लेकिन ये नकली ऐप हैं जो पैसे चुराते हैं, जो बिल्कुल ब्रांडेड कंपनियों की साइट की तरह दिखते हैं। कुछ ऐप्स में ग्राहक सहायता भी शामिल है। इसमें चैट करने का भी विकल्प है।

जब शोधकर्ताओं ने ग्राहक सहायता पर चैट कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना का विकल्प चुना, तो इसके बारे में उसी भाषा-शैली में बात की गई, जैसा कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना कि वास्तविक ऐप में होता है। शोधकर्ताओं ने एक ही सर्वर पर ट्रेडिंग और क्रिप्टोकरेंसी के ऐसे 167 फर्जी ऐप की पहचान की है। माना जा रहा है कि ये सारे घोटाले एक ही गिरोह कर रहे हैं।

Android

उनका तरीका क्या है?

सोफोस के सीनियर थ्रेट रिसर्चर जगदीश चंद्र ने कहा कि ये फर्जी ऐप दुनिया भर के मशहूर ऐप को कॉपी करके इसी तरह का काम करने का दिखावा करते हैं। फर्जी आवेदनों के जरिए निजी स्तर पर जानकारी जुटाई जाती है। वह बार-बार फर्जी ऐप में पैसा डालने या क्रिप्टो करेंसी देने कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना का दबाव बनाता है। अगर यूजर उस ऐप से बाद में पैसे निकालना कॉपी ट्रेडिंग के जरिए पैसा कमाना चाहता है या अकाउंट बंद करना चाहता है तो हैकर्स उस फर्जी ऐप से उनका कॉन्टैक्ट काट देते हैं।

इसमें एक्सेस को ब्लॉक करने के अलावा और भी कई तरीके शामिल हैं। अन्य मामलों में भी, एक नकली वेबसाइट के माध्यम से एक विश्वसनीय ब्रांड प्राप्त करने की सलाह दी जाती है। ये हैकर्स आईओएस का फर्जी ऐप स्टोर भी बनाते हैं। यानी एक बार फंस जाने के बाद बचना मुश्किल है।

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें और टेलीग्राम पर ज्वाइन करे और ट्विटर पर फॉलो करें .डाउनलोड करे Talkaaj.com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

स्मार्ट अनुबंध

स्मार्ट अनुबंध

आपने शायद सुना होगा कि ब्लॉकचेन तकनीक जल्द ही हमारे काम करने के तरीके में क्रांति ला देगी – जिसमें हम चीजें कैसे खरीदते और बेचते हैं। लेकिन आप अभी भी सोच रहे होंगे कि वास्तव में, एक स्मार्ट अनुबंध क्या है, यह क्यों मायने रखता है, और यह कैसे काम करता है?

एक स्मार्ट अनुबंध एक स्व-निष्पादित अनुबंध है जिसमें खरीदार और विक्रेता के बीच समझौते की शर्तों को कोड के रूप में व्यक्त किया जाता है। कोड स्वयं-निष्पादित होता है (ठीक है, बिना किसी तीसरे पक्ष के शामिल), जिसका अर्थ है कि अनुबंध की शर्तें सीधे कोड की पंक्तियों में लिखी जाती हैं। एक वितरित, विकेन्द्रीकृत ब्लॉकचेन नेटवर्क में कोड और समझौते मौजूद हैं। कोड निष्पादन को नियंत्रित करता है, और लेन-देन ट्रैक करने योग्य, अपरिवर्तनीय (एक बार पुष्टि हो जाने पर), और उनके क्रिप्टोग्राफ़िक रूप से सुरक्षित डिज़ाइन के कारण छेड़छाड़-प्रतिरोधी होते हैं।

रेटिंग: 4.39
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 550
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *